Thursday, September 20, 2007

नैतिकता की दुहाई देना बेकार

अपराधियों के पुलिस मुठभेड में
मारे जाने के समाचार प्रचार
माध्यमों मे छा जाते
पर उनके हाथों मारे गए
बेकसूर लोगों को भूल जाते
शायद अपराधियों के हाथ में
शक्ति के स्त्रोत होने का ही यह
परिणाम है कि हर दिन
अपराधों के बढते ग्राफ पर
हायतौबा मचाने वाले
रात को उनके गले मिलने जाते
उनकी ह्त्या की शिकार देहों की रूहें
उनका पीछा नहीं छोड़ेंगी
यह लोग समझ नहीं पाते हैं
--------------------------

अपराधियों ने प्रचार माध्यमों की
वजह से ही हीरो की छबि पायी है
आज कोई दान, पुण्य और परोपकार
करने पर इज्जत नहीं पाता
लोग में जो डर और आतंक फैला दे
वही हीरो कहलाता
जिसने तलवार उठायी
उसने ही दमदार की छबि पायी
लोग खुद ही देते हैं उनको प्रोत्साहन
नैतिकता और मान-मर्यादा कि
बेकार है देना दुहाई
------------------------

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर