Friday, July 14, 2017

जंग लगी ख्याल पर-हिन्दी लघुकवितायें (jang lagi khyal par-Hindi Laghu kaitaey HindiShortpoem)

आकाश के उड़ते पंछी
जमीनी कीड़ों की परवाह
कहां करते हैं।
नीचे आते केवल
दाना पानी पेट में भरते हैं।
--
ढेर सारी किताबें
आले में सजी पड़ी हैं।
कभी पढ़ने के इरादे जरूर
अभी कंप्यूटर में आंखें गड़ी हैं।
--
भूख पर बहस से
बहुत पेट भर जाते हैं।
पर्दे पर कोई रोटी नहीं पकाता
सब रुदन से रेट भर आते हैं।
-
मकान बड़े बनाये
घर छोटे होते गये।
चार से दो हुए
फिर दो होकर
अकेले यादों में खोते गये।
---
जंग लगी ख्याल पर
प्रगति पथ पर चले जा रहे हैं।
बनाया कागजों का स्वर्ग
हवा में जो गले जा रहे हैं।
--
हादसों से 
पेशेवरों हमदर्दों की
मलाई बन जाती है।
शब्दों से पकती मदिरा
भरे ग्लास से
कलाई तन जाती है।
---

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर