Wednesday, September 12, 2007

अल्पज्ञानी और कौवा

तीन मित्र पहुंचे एक पहुंचे हुए
सिद्ध के पास लेने ज्ञान
और बोले
'महाराज ज़िन्दगी से हैं हम परेशान
तमाम तरह के तंत्र-मंत्र किये
तमाम दरबारों पर मत्था टेका
पर हुआ नही कल्याण
हमारे मन को शांति मिले
कृपा कर ऐसा दें ज्ञान'

सिद्ध पुरुष ने तीनों को देखा और कहा
'मैं कोई चमत्कारों का सौदागर नहीं
जो पल में कर दूं तुम्हारा कल्याण
पहले लूंगा तुम्हारा इम्तहान
फिर दूंगा जीवन का ज्ञान'

तीनों को दी कापी और पेन और कहा
'इस पर कौवे पर निबंध लिखो
इसमें तुम्हारा लिखा हुआ ही
कराएगा परिचय दस मिनट में ही कि
कौन कितना बुद्धिमान'

तीनों ने दस मिनट में कापी लिखकर
दे दीं गुरू जीं के हाथ में
करने लगे वह उसकी जांच
एक ने लिखा
'कौवे के बारे में मुझे कुछ भी
लिखना नही आता
मैं तो हूँ गंवार और अनजान '

दुसरे ने लिखा
'कौवा है एसा पंछी
जिसकी सबसे होती है तीक्ष्ण दृष्टी
उस जैसा गुण पा ले
कभी दुख्नी न हो इन्सान'

तीसरे ने लिखा
'कौवा काला, काली उसकी नीयत
सुबह उसकी आवाज सुन लें तो
पूरा दिन होते परेशान'

सिद्ध पुरुष ने फैसला दिया
'कौवे के बारे में जो नहीं जानता
उस निरे अज्ञानी को और
जो उसमें दूरदृष्टि देखता है
उस परम बुद्धिमान को
मैं अपना शिष्य बनाऊंगा
जिसने कौवे में दोष देखे
दिखा उसमें एक भी गुण
उस अल्पज्ञानी को
मैं नहीं दे पाऊँगा कोई ज्ञान'

तीनों चले गए तो गुरुजी के
पुराने और प्रिय शिष्य ने पूछा'
'उस निरे अज्ञानी से तो वह ठीक था
कुछ लिखना-पढना तो जानता था
उसे भी अपना शिष्य बना लेते
कृतार्थ करते उसे देकर ज्ञान'

सिद्ध पुरुष ने कहा
'उसे अपने अक्षर ज्ञान का था अहंकार
सब विषय में पढा पर उसका था अभिमान
इसलिये रह गया अल्पज्ञानी
पर उस अपढ़ अज्ञानी को यह मालुम है कि
नहीं है इसके पास नहीं कोई ज्ञान
वह लगन से सीखेगा
बुद्धिमान पर तो होगी थोडी मेहनत
पर उस अल्पज्ञानी पर
पूरी जिन्दगी गुजार देता
फिर भी नहीं होता उसे ज्ञान
सदैव अहंकार में डूबा रहता
थोडा सीखता ज्यादा दिखाता
दोष दूसरों में देखे
नहीं होता कभी उन्हें अच्छाई का भान
------------------

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर