Thursday, May 28, 2009

सात पुश्तों के लिये रोटी का जुगाड़-व्यंग्य कविता (sat pidhiyon ke roti-hindi hasya vyangya kavita)


वादे और इरादे
बाजार में बिक जाते हैं
सच देखने तक भला
कितने लोग जिंदा रह पाते हैं।

धरती पर बने जुहन्नम में जीते लोग
जन्नत की ख्वाहिश में
अपनी जिंदगी घिसते चले जाते हैं
वहां जगह मिली कि नहीं
भला मुर्दे कभी बताने आते हैं।

गरीबी मिटाने
भूख भगाने और
सम्मान दिलाने के वादे
करते रहो
ना शब्द से करना परहेज
बस हां कहो
समझदार इसलिये वही कहलाते
जो भले ही एक टुकड़ागुड़ का न दें
बात और वादे तो गुड़ जैसे जरूर करते
सात पुश्तों के लिये
रोटी का जुगाड़ इसी तरह किये जाते हैं।

.......................................
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

woyaadein said...

बहुत खूब कही....

साभार
हमसफ़र यादों का.......

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकाऐं

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर