Sunday, August 12, 2007

अँधेरे में तीर का तक चलेंगे

अंधेरे में चलाते हैं वह तीर

जहाँ दाल का पानी भी नहीं मिलता

कागजों में बाँट जाती है खीर

गरीबी का इलाज करते हैं

ऐसे शल्य-चिकित्सक

जो नहीं जानते इसकी पीर



आकर्षक योजनाओं का रथ

भ्रष्टाचार के पहियों पर

धीरे-धीरे रेंगता हुआ चलता है

जिसको अवसर मिलता है

वही फुर्ती से कमीशन

लूटकर चलता बनता है

बोरी में बंद गेहूं, दाल और चावल

बिचोलियों के भोजन में

बन जाता है मटन-पनीर

बेरोजगारी का इलाज

वह लोग करते हैं

जो ऊपरी कमाई के कहलाते हैं वीर



प्रतिवेदन में लिखे होते हैं दावे

हजारों बनाम पेट भर जाने के

जाने-पहचाने नाम वाले

मुख होते हैं मोहताज दाने-दाने के

पता नहीं कब तक चलेंगे

इस तरह अंधेरे में तीर

-----------------------------------



नारे लगते-लगते विकास के

इस देश में आशाओं और आकांक्षाओं

के दीप जलने लगे हैं

फाइलों में ऊंची विकास दर के

आंकडे अब सितारों की तरह

चमकने लगे हैं

टीवी चैनलों और अखबारों में

विकास की बातें करने वालों के

चेहरे रोज चमकने लगे हैं

पर सड़कों पर पडे गड्ढे

चहुँ और फैले गंदगी के ढ़ेर

और रोजगार के लिए भटकते

हुए युवकों का हुजूम

जो एक कटु सत्य की तरह

सामने खडा है

उससे क्यों डरने लगे हैं

विकास के आंकडे और सच

अलग-अलग क्यों लगने लगे हैं

----------------------

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर