Saturday, August 25, 2007

प्यार से है ज्यादा जान प्यारी

निराश प्रेमी ने हाथ पकड़ कर
अपनी प्रेमिका से कहा
'हम दोनों के परिवार वाले
नहीं हो रहे हमारे रिश्ते पर सहमत
उनसे लड़ने की नहीं है हम दोनों में हिम्मत
चलो कहीं डूब कर मर जाते हैं
अपना नाम अमर प्रेमियों की
लिस्ट में शामिल करा जाते हैं '
प्रेमिका ने ग़ुस्से में अपना
हाथ छुडा कर कहा
'पगला गये हो
इस जमाने में प्रेम पर
आत्महत्या करने की
बात तो सोचना भी बेकार
मैं तो समझी थी कि टाइम
पास करने हम आते हैं
पुराने समय में नहीं थे
इन्टरनेट, कंप्यूटर और
टीवी जैसे मनोरंजन के साधन
नहीं देख पाता था कोई भी
नकली प्रेम के विज्ञापन
सिमटी रहती थी गाँव तक ही सोच
ऐक लडकी-लड़के के मिलने पर
हंगामा पूरे इलाके में मच जाता
अब तो सेंकड़ों सड़कों पर घुमते हैं
देखकर भी हर कोई अनदेखा कर जाता
अब तो पड़ फीकीं पुरानी प्रेम कहानी
कोई याद नहीं करता उनको
सबको याद हैं बस फिल्मी हीरो और
हीरों की नाम मुहँ जुबानी
ऐक ढूँढो हजार मिलते हैं
शादी के लिए रिश्ते
कलकत्ता से कनाडा तक दिखते हैं
तुम में नहीं है हिम्मत
पर मुझे तुम्हारे प्यार से ज्यादा है जान प्यारी
इसलिये कल से हम अजनबी हो जाते
-------------------

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर