Saturday, July 25, 2009

अंग्रेजी ब्लाग के बीच हिंदी ब्लाग क्या करेगा-आलेख (inglish and hindi blog-hindi article)

विलियम्स नाम के 43 वर्षीय उस मानवाधिकार कार्यकर्ता ने पता नहीं क्या सोचकर इस लेखक के हिंदी ब्लाग को अपने ब्लाग से लिंक कर लिया? उसने सुबह लिंक दिया था तब सोचा कि शायद जल्दबाजी में गलती कर गया होगा। फिर शाम को देखा तो उसका ईमेल टिप्पणी के रूप में देखा। इसका मतलब वह जानता है कि उस ब्लाग में क्या है! उसकी टिप्पणी से पता लग जाता है उसे इसके अध्यात्मिक ब्लाग होने का पता है। उसके ब्लाग पर अपना पाठ देखकर हैरानी हुई। आखिर उसके अंग्रेजी पाठक हिंदी का ब्लाग कैसे पढ़ेंगे? उसकी टिप्पणी नीचे लिखी हुई जिसका पूरा अर्थ देखने के लिये लेखक को भी डिक्शनरी देखनी होगी।
William मुझे
विवरण दिखाएँ ७:०२ am (1 दिन पहले) उत्तर दें
William has left a new comment on your post "भर्तृहरि नीति शतक-चमचागिरी से कोई लाभ नहीं होता (c...":
by the way, Deepak Bartdeep, I will remember to salt the meat for abdominal digestibility also. Just remember oh spiritual leader, human rights apply to you to!
Posted by William to दीपक भारतदीप की हिंदी एक्सप्रेस पत्रिका at 25 July, 2009


यकीनन उसे स्वयं भी हिंदी नहीं आती होगी। उसने जरूर अनुवाद टूल के सहारे उसे पढ़ा है और उसे लगा कि शायद यह ब्लाग भी उसका आवागमन बढ़ाने में सहायक होगा या संभव है कि वह कोई मानवाधिकारों से संबंधित कोई लक्ष्य लेकर बढ़ रहा हो। यह मानना गलत होगा कि वह अंग्रेजी का ब्लाग लेखक है तो उसके पास पाठकों आवगमन अधिक होगा क्योंकि लगातार यह बातें आती रहती हैं कि अनेक ब्लागों को पढ़ने वाला एक ही आदमी है। बहरहाल यह दिलचस्प है कि अंग्रेजी और अंग्रेजों के बीच हिंदी अपनी जगह बनाने का प्रयास कर रही है। इस विषय में एक हिंदी ब्लाग लेखक ने एक दूसरे लेखक के ब्लाग पर यह टिप्पणी की थी कि ‘हिंदी नई भाषा है इसलिये यह आगे निश्चित रूप से बढ़ेगी’। वह शायद भूल गये होंगे पर इस लेखक को याद है।
एक अंग्रेजी ब्लाग लेखक द्वारा हिंदी ब्लाग को लिंक करना कोई बड़ी बात नहीं है पर इस बात का संकेत तो है कि भाषा और लिपि की दीवारें अब कमजोर हो रही है। इस लेखक का यह चैथा ब्लाग है जिसे किसी अन्य भाषा के ब्लाग ने लिंक किया है। तीन अरेबिक लिपि के हैं पर भाषा का पता नहीं है। अलबत्ता वह सभी वर्डप्रेस के हैं इसलिये अधिक विचारणीय नहीं लगता पर यह ब्लाग स्पाट का पहला ब्लाग है जिसे किसी अंग्रेजी ब्लाग लेखक ने लिंक दिया है। ऐसा लगता है कि उस ब्लाग लेखक ने यह उम्मीद की होगी कि अनुवाद टूलों के सहारे उसके पाठक हिंदी भी पढ़ लेंगे। यह भी संभव है कि वह इसी आशा के सहारे हिंदी में भी पाठक ढूंढना चाहता हो।
इसमें कोई संदेह नहीं है कि भविष्य में ब्लाग लेखन पूरे विश्व में एक महत्वपूर्ण सकारात्मक भूमिका निभाने वाले हैं। अनेक सामाजिक और धार्मिक आंदोलनों का जन्म इन्हीं ब्लाग लेखकों के मध्य से होगा। भाषा और लिपि की दीवारें गिरी तो कई ऐसे भ्रमों और मिथकों का ढहना भी तय है कि जो उनके सहारे टिके हुए हैं। ऐसे में हिंदी की अध्यात्मिक शक्ति ही है जो भाषा को बचाये रख सकती है।
...................................
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

3 comments:

शरद कोकास said...

हिन्दी को विश्व भाषा बनाये जाने की दिशा मे यह एक सराहनीय कदम है इसका स्वागत किया जाना चाहिये

Suresh Chiplunkar said...

आपको हार्दिक बधाई, आप जितना और जिस क्वालिटी का श्रम कर रहे हैं इसका फ़ल देर से ही सही मिलेगा अवश्य…

निशांत said...

आपको हार्दिक बधाई. लगता है सबको यह धीरे-धीरे पता चलने लगा है कि आपका ब्लौग विश्व का आठवीं वरीयता प्राप्त ब्लौग है.

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकाऐं

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर