Tuesday, February 24, 2009

आजाद की तरह हर गुलाम बहस करेगा-हास्य व्यंग्य कविता (azad aur gulam-hindi hasya kavita)

फंदेबाज बोला
बहुत समय से सुनते आ रहे थे नाम
अब तो आया अपने यहां भी इनाम
बताओ यह ऑस्कर क्या होता हैं
जिसको याद कर अपनी फिल्मी दुनियां का आदमी
रात को भी नहीं सोता है
बरसों से प्रेम,पैसे और प्रतिष्ठा से
जिनको अपने सिर पर बैठा रखा
वही लोग अपने हाथ बाहर फैलाये रहते हैं
भीख की तरह इनाम मिले
इसके लिये हर तरह का ताना सहते हैं
गोरे जब तक न करें वाह
तब तक भरते रहते हैं आह
अब तो यह ऑस्कर आ गया
खुशी मना रहे हैं जमकर लोग
जैसे भाग गया हो कोई पुराना रोग
जरा तुम ही हमें समझाओ’

पहले सुनकर चैंके
फिर आंखों और नाक के बीच लटके चश्में से
झांकते हुए बोले दीपक बापू
‘जब पूरी तरह अपनी बात कह डाली
फिर हमसे क्या सुनना चाहते हो
खुद ही कर लिया करो कविता
हमारे हास्य रस में क्यों नहाते हो
जिन के सिर पर रखते हैं देश के लोग ताज
गुलामी की आदत कुछ ऐसी है उनमें
गोरे अगर नजर इनायत न करें तो
उस पर नहीं होता उनको नाज
इसलिये हाथ फैलाये खड़े हो जाते हैं
ऑस्कर का कार्यक्रम तो बाद में आता
यहां विज्ञापन से पहले ही पैसा वसूल हो जाता
गोरे भी आकर इंसान है
कभी तो उनका दिल जाता है पसीज
खाली हाथ लौटाने वालों की
नहीं सह सकता कोई भी खीज
गोरी चमड़ी का घमंड वह छोड़ नहीं सकते
इसलिये इनामों में भी अब
पुराने गुलामों को चालाकी से तो जोड़ सकते
इसलिये गोरे चेहरे से ही एक फिल्म बनवाई
उसमें अभिनय के लिये गुलामों की भीड़ लगाई
फिल्म के शीर्षक में भी ‘कुत्ता’ शब्द जोड़कर
बता दिया अपने लोगों को
नहीं जा रहे असलियत छोड़कर
अवार्ड डाला कि हड्डी कोई नहीं जानता
फूट डालो और राज करो की नीति में
गोरे हमेशा सफल रहे
इसलिये कोई अवार्ड को अपना
तो कोई पराया मानता
तुमने कहा तो हमने भी कह दिया
मगर बहस यहां बहुत होगी
नहीं तो विज्ञापन से कमाई कौन करेगा
उसकी कमाई मरेगी जो इसे अवार्ड नहीं कहेगा
जिसको कुछ नहीं मिलना वह हड्डी कहेगा
देखते रहो दृष्टा बनकर
आजाद की तरह हर गुलाम बहस करेगा
तुम तो बस ताली बजाओ
नहीं तो महफिल ही छोड़ जाओ

........................................

यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकाऐं

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर