Tuesday, March 10, 2009

सभी को याद करना पर हमें भूल जाना-हिंदी कविता (holi par hamen bhool jana-hindi kavita)

होली के रंग खूब खेलना
पर हमारी तरफ नहीं ठेलना।
जमाने के रंग हर बार फीके होते देखे हैं
रंगीन चेहरों के भी तेवर तीखे देखे हैं
दिलो दिमाग मे जलती है आग
उसी से रौशन है हमारा चिराग
बुझ जायेगा, पानी की बूंदों में
रंग डालकर होली हमारे साथ मत खेलना ।

हमारा चेहरा उदास देखकर
उस पर कोई रंग पोतकर
चमक लाने की कोशिश बेकार होगी
जनम से ही चिंतन के रोगी
पैदा कर लेते हैं ख्यालों के रंग
बाहर के रंगों से
भला उन पर क्या रौनक होगी
खेलते हुए कम पड़ जायें तो
रंग हम से उधार ले लेना।

आदत हो गयी है अपनी उदासियों के साथ जिंदा रहने की
अपने पीठ पीछे निंदा सहने की
अपनी बात कहना आया नहीं
दूसरे का कहा कभी भाया नहीं
पहले कितने भी चमके
पर बाद में फीके पड़े गये रंग
कितना भी खेला हो इंसान
पर बढ़ा नहीं उसकी सोच का दायरा
दिमाग रहा हमेशा तंग
प्यासे हैं बरसों के
एक दिन होली खेलने से मन नहीं भरेगा
प्यास बढ़ गयी अरमानों की तो
कौन उनको पूरा करेगा
बेरंग हो चुकी हमारी जिंदगी में
कोई रंग अब नहीं भरा जा सकता
अकेले में उदासी ही हमारा रंग है
तुम खुशनसीब हो जो भीड़ में
अपने लिये खुशियां तलाश लेते हो
दुआ है हमारी अधिक से अधिक सहेज लेना।

सभी को याद करना पर हमें भूल जाना
पसंद नहीं है किसी की यादों पर जाकर उसे सताना
खूब उड़ाना रंग और गुलाल
पर हमारी तरफ नहीं आना
बेरंग होती जा रही हमारी जिंदगी
में अपना पांव नहीं फंसाना
यकीन करो अकेले में
अपने उदासी के रंगों से खेलना
हमें बहुत भाता है
तुम डर जाओगे वह देखकर
इसलिये बीच बाजार होली हमें भुलाकर खेलना

.......................................
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

2 comments:

मोहिन्दर कुमार said...

आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएं. ईश्वर आपके जीवन में उल्लास और मनचाहे रंग भरें

vijay gaur/विजय गौड़ said...

होली की बहुत शुभकामनायें.

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकाऐं

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर