Wednesday, March 18, 2009

तभी अपने लिए उम्मीद कर पाओगे-हिंदी शायरी (apne liye ummid-hindi shayri)

अपने दिल के घाव छिपाना, नहीं तो बहुत पछताओगे.
देख लिया किसी ने तो, ज़माने में बिचारे बन जाओगे.

अपने अन्दर बहते हुए आंसुओं पर खूब हंसना
किसी से हमदर्दी चाही तो खुद एक मजाक बन जाओगे.

पूरा ज़माना डूबा है गम में, ढूंढता है दूसरा ग़मगीन
देख लिया किसी ने दिल तुम्हारा, तो हंसी की शय बन जाओगे.

रोने से इन्सान के लड़ने की ताकत कम हो जाती है
मांस के बुतों का यह शहर है, कोई हमदर्द नहीं ढूंढ पाओगे.

दस्तूर हैं दूसरों की मदद का, पर निभाते हैं उसे कम लोग
पर तुम बाँटना दूसरों का दर्द, तभी अपने लिए उम्मीद कर पाओगे.

------------------

यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर