Sunday, January 18, 2009

पर्दे पर रिश्ते पैसे लेकर बने होते हैं-हास्य कविता

बेटे ने पूछा मां से
‘मां टीवी पर धारवाहिकों में
सभी के दादा दादी तो बहुत जवान होते है।ं
सभी के बाल होते हैं काले
चेहरे होते हैं गोरे
हमेशा रहते वह सजे संवरे
पोतों को प्यार करने
दौड़ते है उनको गोदी में उठाने बहुत जल्दी
जब वह रोते हैं
अपने दादा दादी तो बस बीमार होकर सोते है।
उनके बाल भी हो गये सफेद
हमेशा पुराने कपड़े पहने रहते हैं।
प्यार करते हैं बहुत कम
कभी भी उनके उनके चेहरे
टीवी वाले दादा दादी जैसे नहीं होते हैं।

मां ने कहा-‘
बेटे! टीवी देखकर भूल जाया करो
वहां सब काल्पनिक दृश्य और
लोग नकली होते हैं
अभी तू दादा दादी के लिये कह रहा है
कल मां बाप के लिये भी यही कहेगा
क्योंकि वह भी कभी बूढ़े नहीं होते हैं
हमने पाया है एक दूसरे को जन्म से
पर्दे पर रिश्ते पैसे लेकर बने होते हैं
इसलिये सभी के चेहरे प्रफुल्ल होते है
जिंदगी की है कठिन डगर
उसे पर्द से कभी नहीं मिलाना
क्योंकि हम जी रहे हैं हकीकत में
पर्दे पर तो बस ख्वाब ही होते है।

....................................................

यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर