Tuesday, August 25, 2009

मजहब और बदलाव-हिंदी व्यंग्य कविता (dharm aur badlav-hindi shayri

बूढ़ी इमारतों की तरह खड़े हैं
उन्हें ढहाना जरूरी
लगता है
पर नया मजहब मत बनाओ।


प्यार और दया तो  इंसानी खून में होते हैं
तुम
अपने लफ्ज और लकीरें खींचकर
कोई नया पैगाम न लाओ।


भूख और प्यास कुदरत का
दिया तोहफा है
जो
इंसान को दुनियां घुमाता है
तुम उसे अपने कागज पर
तकलीफों की तरह न
सजाओ।


जरुरतों के गुलामों की जंजीरों को
सर्वशक्तिमान
नहीं तोड़ सकता
तुम भी ऐसा दावा न जताओ।


दूसरों से उधार लेकर सोच
तुम अपने ख्यालों के
चिराग जला रहे हो
जिंदगी एक बहता दरिया है
जिस पर कोई काबू नहीं कर
सकता
रास्ते बदल सको जमाने के
तुम अपनी ताकत ऐसी न बताओ।


गुस्से को सजाकर शायरी में सजाकर
वाह वाही
बटोरने वालों
जोश से कभी जिंदगी नहीं बदलती
भले ही दिल में बदलाव की चाहत
मचलती
नया मजहब लाकर
कोई दूसरा पैगाम सजाकर
दुनियां में बदला का ख्याल
अच्छा लगता है
पर हर सोच पर झगड़ा बढ़ता  है
जिदंगी को अपनी राह पर
अपनी गति
से चलने दो
सिखाओ लोगों को आंख से देखना
कान से सुनना
दिमाग से
सोचना
वरना तो सामने बैठे जो बैठे है
कुदरत के ऐसे बुत हैं
जो केवल वाह
वाही कर सकते हैं
या बजा सकते हैं तालियां
कुछ दे सकते हैं गालियां
पर
उनसे बदलाव की उम्मीद न लगाओ।
...........................



 


यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

vibha rani Shrivastava said...

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 26 नवम्बर 2016 को लिंक की जाएगी ....
http://halchalwith5links.blogspot.in
पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकाऐं

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर