Monday, March 27, 2017

रोमियो को न रोईये मुंह ढंककर सोईये-छोटीकविताये एवं क्षणिकायें(Romeo ko n roiye munh dhankkar soeeye-HindoShrotPoem)

रोमियो को न रोईये
मुंह ढंककर सोईये।
शायरी बड़ी चीज है
लिख लिखकर बोईये।
--
भोगी ने बेहाल किया
रोग ने दर्द दिया।
जे कौन जोगी आया
जिसने नया फर्ज दिया।
-
तस्वीरों से ऊब जाओ
तब शब्द भी बोल दिया करो।
आंखें थकी हों दिल की सोच भी
तब खोल दिया करो।
--
सबका भला कठिन है
हमने इसलिये तख्त नहीं मांगा है।
हैरान है यह देख
लालचियों ने अपने घर में टांगा है।
-------
दिल के कद्रदान
कभी ऊबते नहीं है।
मतलबपरस्त कभी जज़्बातों में
डूबते नहीं है।
-------

अपनी हंसी संभालकर रखना
हमारे दर्द में
दवा के काम आयेगी।
अपनी खुशी बनाये रखना
हमारा यकीन
बचाने में काम आयेगी।
--------

सर्वशक्तिमान का नाम का भी
व्यापार हो जाता है।
वहम के दरिया में 
कोई बंदा डूबता
कोई पार हो जाता है।
-

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर