Friday, September 24, 2010

आस्था का व्यापार-हिन्दी कविताऐं (aastha ka vyapar-hindi kavitaen)

अपनी आस्थाओं को दिखाने के लिये
वह चीखते और चिल्लाते हैं,
भीड़ में प्रचार पाने के लिये
लेकर सर्वशक्तिमान का इठलाते हैं,
उनके लिये अपना विश्वास
दिल में रखकर चलने की चीज नहीं
दुनियां जीतने के इरादे से
भक्ति भी नारों की तरह गाते हैं।
-------
जिनको अपनी आस्थाओं के साथ
जंदा रहना नहीं आता है,
दूसरों की भावनाओं पर
अपने विचारों का व्यापार करने में ही
उनको आस्था का प्रश्न नज़र आता है।
------
अपनी आस्था दिल से निकालकर
किसी को दिखलायें
यह हमें करना नहीं आता है,
मुश्किल यह है कि जो नहीं रखते दिल में
आस्था का व्यापार उनको ही करना आता है।
--------

कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com
---------------------------
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका

No comments:

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर